प्रयोक्ता रेटिंग: 5 /5

सक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारक
 


Problem Solvedमज़ेदार कहानी: पत्नी 1.0 (Patni 1.0)

 

हाल ही में प्रेमिका 7.0 से पत्नी 1.0 पर अपग्रेड किया?

 

मदद चाहिए! माशूका 8.0 या बीवी 2.0 लाने से समस्या नहीं सुलझेगी...

पिछली कहानी: पढ़ें इस किस्से से पहले की कथा: (अभी अप्रकाशित)

“क्या है इतना मज़ाकिया?” रोष गुर्राया|

काफी देर से ईशा अपना लैपटॉप लिए खी-खी करे जा रही थी, और उसे इससे खुंदक चढ़ रही थी| वो अपने लैपटॉप पर अपनी रिपोर्ट पूरी करने की कोशिश कर रहा था|

“शादी के मज़ेदार चुटकुले हैं पुराने,” उसने फिर खीसे निपोरीं, और उसके लिए ऊँची आवाज़ में एक चुटकुला पढ़ने लगी:

प्रिय टेक सप्पोर्ट (तकनीकी सहायता),

विषय: हाल में हुआ सिस्टम अपग्रेड - पत्नी 1.0 | मदद चाहिए!

मैंने हाल ही में प्रेमिका 7.0 से पत्नी 1.0 पर अपग्रेड किया था| कुछ ही समय बाद मैंने पाया कि नए प्रोग्राम ने अप्रत्याशित बच्चा-प्रोसेसिंग शुरू कर दी है, जिसमें ढेरों जगह और बहुमूल्य संसाधन लगने लगे हैं| इस प्रक्रिया का प्रोडक्ट डिस्क्लोज़र स्टेटमेंट (उत्पाद प्रकटीकरण बयान) में तो कहीं उल्लेख नहीं था|

इसके अलावा, पत्नी 1.0 खुद को बाकी सभी प्रोग्रामों में इनस्टॉल (स्थापित) कर लेती है, और सिस्टम शुरू होते ही लॉन्च (चल पड़ती) हो जाती है, जहाँ से ये सिस्टम की बाकी सारी गतिविधियों पर नज़र रखती है|

कई एप्प (एप्पलिकैशन) जैसे जुए की रात 10.3, रात-भर नशे में टुन्न लड़के 2.5 और शनिवार फुटबॉल 5.0 तो अब चलना ही बंद हो गए हैं| जैसे ही उन्हें चलाओ, सिस्टम क्रेश (फेल) हो जाता है|

अपने पसंदीदा कुछ और प्रोग्राम चलाते हुए भी मैं पत्नी 1.0 को पीछे नहीं रख पा रहा हूँ| वापिस प्रेमिका 7.0 के पास जाने की सोच रहा हूँ, लेकिन पत्नी 1.0 की अनइनस्टॉल यूटिलिटी (रद्द करने वाली) ही चल के नहीं देती| क्या आप कृपया मेरी मदद कर सकते हैं!

धन्यवाद,

एक परेशान ग्राहक

“शादी वो लड्डू है,” रोष मुस्कुराया, “खाओ, तो पछताओ| न खाओ, तो पछताओ| लेकिन फायदे भी हैं इसके| इसे कामयाब बनाया जा सकता है|”

“कैसे?” ईशा ने पूछा|

“कोई बड़ी बात नहीं,” उसने जवाब दिया| “छोटी-छोटी बातें हैं जो कारगर करती हैं इसे| हफ्ते में दो बार रेस्त्रां जाने के लिए वक़्त निकालना| मोमबत्ती की रोशनी, डिनर, हल्का संगीत, नृत्य...”

“यानि, एक मंगल को जाए,” ईशा खिलखिलाई, “और दूसरा शुक्कर को?”

“मस्त रहेगा,” रोष ने आँख मारी| “छोटी-छोटी और भी चीज़ें हैं शादी दुरुस्त रखने के लिए| जब भी अपनी गलती हो, मान लो| जब भी अपनी गलती न हो, खामोश रहो|”

टेक सप्पोर्ट की भी यही सोच है,” ईशा खिलखिलाई| “ये है उनका जवाब:”

प्रिय परेशान उपभोक्ता,

ये एक बड़ी आम समस्या है जिससे मर्दों को शिकायत रहती है, लेकिन ज़्यादातर ये एक मौलिक गलतफहमी की वजह से है| कई लड़के प्रेमिका 7.0 से पत्नी 1.0 अपग्रेड ये समझकर करते हैं कि पत्नी 1.0 सिर्फ एक उपयोगी मनोरंजक प्रोग्राम है|

पत्नी 1.0 एक ऑपरेटिंग सिस्टम है, जिसे इसके बनाने वाले ने सब कुछ चलाने के लिए बनाया है| मुमकिन नहीं लगता कि अब आप पत्नी 1.0 को पूरी तरह साफ करके प्रेमिका 7.0 के पास वापस जा पाओगे|

आपके सिस्टम के भीतर छिपी ऑपरेटिंग फाइलें प्रेमिका 7.0 को भी पत्नी 1.0 की तरह ही चलने पर मजबूर करेंगी, तो ऐसा करने से कुछ फायदा नहीं है|

एक बार सिस्टम में इंस्टाल होने के बाद पत्नी 1.0 की प्रोग्राम फाइलों को पूरी तरह हटाया, डिलीट या साफ नहीं किया जा सकता| प्रेमिका 7.0 के पास आप वापिस जा नहीं सकते, क्योंकि पत्नी 1.0 ऐसी इजाज़त देने के लिए बनी ही नहीं|

कुछ लोगों ने माशूका 8.0 या बीवी 2.0 इन्स्टाल करने की भी कोशिश की है, लेकिन इससे ओरिजिनल इन्सटाल से भी ज़्यादा पंगे हुए हैं|

मेरा सुझाव है कि आप ‘सामान्य भागीदारी दोष’ (जनरल पार्टनरशिप फौल्ट्स - GPFs) वाला पूरा अनुभाग (सेक्शन) पढ़ डालें| उसमें साफ-साफ लिखा है कि ये प्रोग्राम इस्तेमाल करने में, हो सकने वाली तमाम मुश्किलात और गड़बड़ियों की ज़िम्मेवारी खुद आप लेते हो, चाहे वो हुई किसी भी कारण से हों|

पत्नी 1.0 उपयोग करके मैंने खुद पाया कि पृष्ठभूमि में C:\हाँ बेबी एप्प चलाने से सिस्टम ज़्यादा गर्म होने से बच जाता है| C:\माफी कमांड दर्ज करना भी एक उपयोगी तरीका है|

बहरहाल, C:\हाँ बेबी के बहुत ज़्यादा इस्तेमाल से बचें, क्योंकि आखिर में तो ऑपरेटिंग सिस्टम को नार्मल बनाने के लिए शायद आपको C:\माफी कमांड दर्ज करनी ही पड़ेगी| जब तक आप सारे GPFs की ज़िम्मेदारी लेते रहेंगे, सिस्टम सुचारू रूप से चलता रहेगा|

पत्नी 1.0 गज़ब का प्रोग्राम है, लेकिन रखरखाव महंगा पड़ सकता है| पत्नी 1.0 के प्रदर्शन में सुधार के लिए और सॉफ्टवेयर खरीदने के बारे में सोचें| मेरा सुझाव है फूल 3.1 और हीरे 2K

किसी भी हालत में, मिनी स्कर्ट वाली सेक्रेटरी 3.3 इनस्टॉल न करें| पत्नी 1.0 के साथ ये एप्प चलाने की राय नहीं देते हम क्योंकि इससे ऑपरेटिंग सिस्टम को अपरिवर्तनीय क्षति हो सकती है|

अपने मैनुअल में ‘चेतावनी - गुज़ारा भत्ता / बाल समर्थन' के तहत देखें| मेरी राय है पत्नी 1.0 रखे रहें|

शुभकामनाओं के साथ,

तकनीकी सहायता

"इश्क अंधा हो सकता है," रोष ने सिर हिला कर कहा, "लेकिन शादी तो असल में ऑंखें खोल देती है|”

अगली कहानी: कुत्ते की लाइफ