प्रयोक्ता रेटिंग: 5 /5

सक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारक
 


Chutneys for Bhel Puriधनिया नारियल चटनी (Dhaniya Nariyal Chatni) कैसे बनाते हैं?

 

ईशा होश को फटाफट बन जाने वाली एक सरल, सस्ती रेसिपी सिखाती है, जो लगे रेस्तरां जैसी पर बदली भी जा सके।

पिछली कहानी: हरी या लाल मिर्च का पेस्ट

"धनिया नारियल की चटनी," ईशा बता रही थी और होश ध्यान से सुन रहा था, "एक मिश्रित चटनी है|”

“धनिया मिर्च चटनियाँ उत्तर भारतीय मसालेदार या गहरे तले व्यंजनों, जैसे समोसा, पकोड़ा, आलू बोंडा आदि, के साथ ज़्यादातर इस्तेमाल होती हैं क्योंकि वे स्वाद और मसाले को भड़का देती हैं|”

“नारियल चटनियाँ पारंपरिक रूप से शीतलता देने के लिए इस्तेमाल की जाती रही हैं, और उनका इडली, डोसा, वड़ा, उपमा आदि जैसे दक्षिण भारतीय व्यंजनों के साथ बहुत अच्छा तालमेल है| मसालों की गर्मी काटने में ये कमाल होती हैं, और आम तौर पर ये तुम्हारे लिए बहुत अच्छी होती हैं|”

"दूसरी लोकप्रिय चटनियाँ वो हैं, जो पुदीने या आम से बनाई जाती हैं। चटनी मूल भोजन नहीं है, इसलिए इसकी मात्रा और बनाने के तरीकों में तुम आसानी से बदलाव कर सकते हो|”

"आज हम मिर्च के साथ धनिया नारियल चटनी बनायेंगे, क्योंकि आज हमारे मेहमान सोमालियन हैं| हमारे यूरोपीय मेहमान मिर्च की तपिश बर्दाश्त नहीं कर पाते, तो उनके लिए ये साइड डिश बनाते समय मैं इसमें मिर्च नहीं डालती|”

उसने होश को अपने रेसिपी फ़ोल्डर में फाइल करने के लिए सामग्री सूची दे दी, पर उसका समय बचाने के लिए उसने सब कुछ पहले ही इकट्ठा कर रखा था।

सामग्री:

2 कप ताज़ा हरा धनिया
• 60 ग्राम ताजा कटा हुआ / सूखा नारियल
• 1 ताज़ा छोटी हरी मिर्च
• 1/2 चम्मच सेंधा नमक / नमक (स्वाद अनुसार)
• 1/2 चम्मच धनिया पाउडर
• 2 बड़े चम्मच ताज़ा नींबू का रस
• 4 बड़े चम्मच पानी

"ये कितने लोगों के लिए काफी होगा माँ, और बनाने में कितनी देर लगेगी?” होश ने पूछा|

“8-10 लोगों को परोसने के लिए काफी होगा,” उसने जवाब दिया| “2-3 मिनट में फटाफट बन जाने वाली रेसिपी सिखा रही हूँ तुझे, जो देखने और स्वाद में फिर भी रेस्तरां जैसी ही लगेगी|”

होश ने, एक मापने के कप में धीरे से दबा कर, ताज़ा हरा धनिया डाल दिया| चूंकि वे ताज़ा नारियल इस्तेमाल कर रहे थे, तो ईशा ने उससे कहा कि वह नारियल की भूरी ऊपरी त्वचा पहले छील ले, क्योंकि ये कठोर होती है और चटनी में नहीं जानी चाहिए। फिर सारा मिश्रण एक मिक्सी (या फूड प्रोसेसर) में डाल, उन्होंने उसे एकसार होने तक पीस लिया|

“हो गया अब, हालाँकि ज़रूरी नहीं है सारा बारीक होने तक पीसते रहना,” ईशा ने कहा| “अगर दानेदार पसंद है, तो इसे मोटा भी छोड़ सकते हो| अब इसे किसी वायु रोधक (एयरटाइट) प्लास्टिक या काँच के बर्तन में संभाल कर रखो|”

“नींबू और नमक प्राकृतिक संरक्षक होते हैं, तो यह 2-3 दिन तक ठीक रहेगा| मगर फ्रिज में रखने से इसकी ताज़गी और स्वाद देर तक बने रहेंगे, तो तब तुम हफ्ते भर तक इसका इस्तेमाल कर सकोगे|”

होश ने उसे चख कर देखा| चटनी में कच्चे धनिये का स्वाद था|

"अगर हरे धनिये की पत्ती का स्वाद पसंद नहीं," ईशा ने कहा, "तो इन पत्तियों को नारियल के साथ ब्लेंड करने से पहले कुछ तेल में भून सकते हो| क्यों स्वाद पसंद नहीं आया क्या?”

"बेहद पसंद आया, माँ,” होश ने कहा, "लेकिन अगर इसे बनाने के सारे तरीके इतने ही तेज़ हैं, तो मुझे कम से कम एक और तरीका सिखाओ न, जो देखने और स्वाद में भी थोड़ा कुछ अलग सा लगे|”

“ज़रूर," ईशा ने वादा किया| “अगले हफ्ते जब अपने दक्षिण भारतीय मित्रों के लिए मैं खाना पकाऊँगी, तब सिखा दूँगी| तब तक, दूसरे तरीके सीखने के लिए यूट्यूब वीडियो देख ले|”

उस रात सोमालिया के उनके दोस्तों को, अच्छी तरह से पेश की गयी वह धनिये और नारियल की चटनी बहुत पसंद आई, जिसे भोजन की शुरुआत से पहले मक्का चिप्स, आलू चिप्स, आलू फ्राई, आलू पकोड़ों और मछली पकोड़ों के साथ परोसा गया था|

इतनी पसंद आई कि ईशा ने मेन कोर्स में पीटा ब्रेड के साथ फिर उसे परोसा| अच्छे खाने और अच्छे दोस्तों के साथ, शाम हमेशा की तरह मजेदार रही|

अगली कहानी: धनिया नारियल तड़का चटनी