प्रयोक्ता रेटिंग: 5 /5

सक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारक
 


nunsखबर रखो (Khabar Rakho), व्यापार और जीवन में अवसर पहचानने के लिए|

 

बिज़नेस मैनेजमेंट सीखना आसान बनता है, जब सनी पादरी के चुटकुले से जानकारी रखने के फायदे समझाता है...

पिछली कहानी: जोखिम प्रबंधन

तीनों अगले दिन कॉलेज सभागार में फिर मिले| सी.के. तैयारी के साथ आया था|

37 पन्नों के पाठ का उसने जो एक पेज में सारांश लिखा था, उसकी एक-एक फोटोकॉपी उसने रोष और सनी को दे दी|

“बस इसलिए कि तुम लोग चीज़ें अगर बाद में भूल जाओ,” उसने कहना शुरु किया, “जैसे कि वक़्त के साथ मैं भूल जाता हूँ|"

"इसलिए मैं हमेशा एक छोटी समरी बना के रखता हूँ, जिसे मैं फटाफट देख सकूं| इससे मेरी याददाश्त भी बनी रहती है और मुझे दोबारा सब कुछ पढ़ना भी नहीं पड़ता|”

रोष और सनी प्रभावित थे| लगता था कि वाकई कुछ बात बन सकती थी यहाँ| ये ग्रुप स्टडी का तरीका वास्तव में कामयाब हो सकता था| काम बाँट लेने से उन सबकी उत्पादकता और कौशल में सुधार हो सकता था|

“चीज़ें समझाने में मैं रोष जितना अच्छा तो नहीं हूँ,” सी.के. ने माफी माँगी| “मगर वैसे भी उसे मुझसे बेहतर होना ही चाहिए| वो लेक्चरार है| लोगों के सामने बोलने और कांसेप्ट (अवधारणा) समझाने का उसे पहले ही खूब तजुर्बा है|”

“तू यारों में है भाई,” सनी ने उसे प्रोत्साहित किया| “अपनी ठुकाई छोड़, बोलना शुरू कर| लैस हो के आया है, ये तो हम देख ही रहे हैं| मस्त करेगा तू|”

रोष ने भी मुस्करा कर हामी भरी, और सीखने को तैयार हो, पत्थर की पटिया पर पसर गया|

जैसा कि खुद सी.के. को संदेह था, उसका भाषण बेकार निकला| अपने कागज़ के पुर्ज़े से एक बार भी नज़र उठाकर अपने दर्शकों को देखे बगैर, वह उसे बस पढ़ता ही चला गया| उदाहरण भी कोई नहीं दिया|

लेकिन आश्चर्य इस बात का था, कि कागज़ के केवल एक पन्ने में उसने कितनी ज़मीन माप ली थी| ज़ाहिर था, कि सामग्री पर उसने बहुत मेहनत की थी| शायद, बताने-समझाने पर ही उसका ज़ोर नहीं था|

“कल,” उसने आखिर बात खत्म करते हुए कहा, “रोष ने जोखिम प्रबंधन और उसकी रणनीतियों के बारे में बताया था| उसने बताया था कि प्रासंगिक महत्वपूर्ण जानकारी दूसरे हितधारकों के साथ क्यों बाँटी जानी चाहिए। अनावश्यक एक्सपोज़र (अनावरण) को रोकने और रिस्क मैनेज करने के लिए सूचना की आवश्यकता होती है|”

“आज हमने जाना, कि सही जानकारी पता होने और उस सूचना को कुशलता से औरों को बताने से, न सिर्फ रिस्क को ही फटाफट पहचानने और मैनेज करने में मदद मिलती है, बल्कि हमें नए बाज़ार अवसर भी नज़र आते हैं|”

“अपने बारे में जानना महत्वपूर्ण है| अपने गाहकों की ज़रूरतें जानना महत्वपूर्ण है| अपने प्रतिद्वंद्वी और सरकार क्या कर रहे हैं, ये जानना भी महत्वपूर्ण हैं| जानकारी बहुत लाभदायक हो सकती है, अगर सही समय पर पायी और इस्तेमाल की जा सके|”

“कैसे?” सनी ने टोका| शुद्ध सिद्धान्त पचाते-पचाते उसकी बस हो गयी थी| “कोई मिसाल तो दे|”

रुकावट पर हैरान सी.के. ने, पहली बार मुँह उठाकर उनकी तरफ देखा| दिमाग पर ज़ोर डाला| सेकंड यातना देते धीरे-धीरे बीत रहे थे| कुछ बाहर निकाल पाने की जद्दोजहद में चेहरा लाल होने लगा उसका|

“मैं देता हूँ एक,” उसकी बढ़ती परेशानी देखकर, सनी होशियारी से अपने दोस्त के बचाव को आया, “कि क्यों पूरी जानकारी रखना हमारे ही लिए फायदेमंद है| ये हमें मौका ताड़ने में मदद करता है|”

“एक पादरी अपनी गाड़ी में कहीं जा रहा था, जब सड़क किनारे उसे एक नन दिखी| नन को लिफ्ट देने, उसने गाड़ी रोक ली| राहत पाकर खुश नन, कार में चढ़ गयी|”

“पैदल चलने और बाहर की गर्मी से बेहाल नन, जब टाँगों की कैंची बनाकर बैठी, तो उसके गाउन का एक सिरा खुल गया, जिसमें से एक शानदार टांग नज़र आने लगी|”

“बात करते-करते जब उसकी ओर देखने मुड़ा पादरी, और टांग पर उसकी नज़र पड़ी तो गाड़ी ठोकते-ठोकते बचा| नन ने प्रतिक्रिया भी नोट की, और उसकी वजह भी, और इनसे वह पूरी तरह नाखुश भी नहीं थी| वह जैसे बैठी थी, वैसी ही बैठी रही| बल्कि कार की गति से ताल मिलाकर धीरे-धीरे उसने अपनी टांगों को क्लच छड़ी के और पास आ जाने दिया|”

“थोड़ी देर बाद, मैनुअल गियर बदलते हुए पादरी की उंगलियाँ उसके पैर को हल्के-से छू गयीं| नन सड़क को घूरती रही, कुछ नहीं बोली| पादरी हड़बड़ा गया| उसने तेज़ी से अपना हाथ वापिस खींच लिया|”

“थोड़ी आगे जाकर, गियर बदलते हुए, उसका हाथ फिर उसकी टांग से छू गया| इस बार थोड़ी ज़्यादा शिद्दत (मज़बूती) से| इस बार किसी गफलत का सवाल नहीं था|”

"नन ने पादरी की दिशा में देखा, और उकसाया: फादर, ल्यूक 14:10 याद है?"

“पादरी ने माफी मांगी, और जल्दी से अपने हाथ को दूर हटने पर मजबूर किया| थोड़ी देर वे चुपचाप ड्राइव करते रहे, लेकिन उसकी आँखें रह-रह कर उसकी टांग पर लौट आतीं|”

“और थोड़ी देर बाद, मेनुअल गियर बदलते हुए, पादरी का हाथ क्लच स्टिक से फिसलता फिर उसकी जाँघ पर आ गया|”

“नन ने इस बार घूम कर सीधा उसकी आँख में देखा|”

मैथ्यू 7-7, फादर!” वह फुसफुसाई|

एक बार फिर, पादरी ने तेज़ी से अपना हाथ दूर हटा लिया|

“सॉरी सिस्टर,” क्षमा-याचना करते हुए वह बुदबुदाया, “लेकिन शरीर कमज़ोर है|”

“एक असहज चुप्पी कार में छाई रही, जब तक कि वे आखिरकार कान्वेंट (नन के रहने के लिए ईसाई मठ) तक नहीं पहुँच गए| नन बाहर निकली, पादरी को अर्थपूर्ण दृष्टि से देखा और अपनी राह चल दी|”

“चर्च लौटते ही, पादरी ने तेज़ी से बाइबल ढूँढकर लूका 14-10 को खोज निकाला|”

“उसमें लिखा था: दोस्त, और आगे बढ़ो|”

“लानत है!” उसने कोसा और तेज़ी से बाइबिल के पन्ने पलटने लगा| मत्ती (मैथ्यू) 7:7 देखने की जल्दी में कई पन्ने मुड़ गए|

“उसमें लिखा था: मांगो, मिलेगा तुम्हें| खोजो, पाओगे तुम| खटखटाओ, तुम्हारे लिए खोल दिया जायेगा|”

“हम बड़े मौके चूक सकते हैं,” सनी ने सी.के. को आँख मारी, “अगर हम खबर न रखें| जानकारी ताकत देती है हमें| आत्मविश्वास देती है| कि हम आगे बढ़ें, और मोर्चा मार लें| नहीं?”

“यही मतलब था मेरा!” सी.के. ने सिर हिलाया, और राहत की सांस ली|

अगली कहानी: संदर्श समझ लो