प्रयोक्ता रेटिंग: 5 /5

सक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारकसक्रिय तारक
 


Thailand 2007रेत के किले (Ret Ke Kile) बनाते बालकों को लहरें सिखा देती हैं जल्दी, कि किले बनाना आसान है, बनाकर उन्हें बचाए रखना मुश्किल|

 

बड़े होने पर ये भूल क्यों जाते हैं हम?

पिछली कहानी: पढ़ें इस कथा से पहले की कहानी – तुम थूको, मैं झुकूँगा | Tum Thuko, Main Jhukunga (अभी अप्रकाशित)

गोवा की चमचमाती रेत पर अकेला लेटा रोष, आस पास की हर हलचल से अनजान था| धूप खिली थी| समुद्र के किनारे तक लहर दर लहर आती, लौट जाती|

मंडोवी नदी (Mandovi River) के मुहाने से सटी, ये करन्ज़लेम बीच (Caranzalem Beach), सैलानियों से अब तक अनजान थी|

पणजी (Panaji) से पाँच किलोमीटर दूर, मीरामार बीच (Miramar Beach) के पश्चिम में छुपी, इस अनदेखी बीच के बारे में उसने कल ही एक मछुआरे से सुना था|

बीच मीरामार - डोना पौला रोड (Donna Paula Road) के समानांतर थी| बीच के किनारे लगे कैसुरिना पाइन (Casuarina pines) और पाल्म (Palms) के पेड़ मंद हवा में अलसाए से झूम रहे थे|

बीच साफ़ सुथरी थी, शायद इसलिए कि काबो राजभवन (Governor's Residence) यहाँ से थोड़ी ही दूर था|

लगभग 3.5 किलोमीटर लम्बी इस बीच पर आज सुबह सवेरे पहुँच कर, नंगे पाँव चलने में उसे बहुत मज़ा आया था| फिर कपड़े उतार कर वह समुद्र में उतर गया था, और करीब एक घंटे तैरा था|

हालाँकि तैरने के किसी खतरे के बारे में, पूरी बीच पर कहीं कोई चिन्ह नहीं लगा था, फिर भी क्योंकि तैरने में वह माहिर न था, इसलिए अंतर्धारा महसूस होते ही वह किनारे वापिस लौट आया था|

अब सूरज निकल आने पर, अलसाया-सा रेत पर पड़ा, वह सूर्य स्नान कर रहा था|

'अगर मेरा बचपन यहाँ बीता होता, समुद्र के पास,' उसने सोचा, 'तो कैसा होता? मैं रोज़ यहाँ आता, घरोंदे बनाता| कितना आनंद आता|'

'और कोई लहर आकर उन्हें उजाड़ जाती,' मन ने जवाब दिया| 'जैसे मौत जीवन को उजाड़ जाती है| किले बनाना आसान है, बनाकर उन्हें बचाए रखना मुश्किल| बड़े होने पर ये भूल क्यों जाते हैं हम?'

सोचते सोचते रोष की आँख लग गयी| मस्तिष्क पूर्व अनुभवों से धागा लेकर सपने पिरोने लगा| उसने देखा, एक एकाकी बालक गीली बालू से रेत का घर बना रहा है| देर तक लगा हुआ| मेहनत मेहनत नहीं महसूस होती| आनंद लगती है|

समय का बीतना - धीरे धीरे - पल पल - दिखाई ही नहीं देता| घर बनाता जा रहा है - उबड़ खाबड़| फिर एक लहर आती है| ले जाती है सब कुछ| घर का कोई निशाँ पीछे नहीं छोड़ जाती| बालक हतप्रभ-सा, सागर को ताकता रह जाता है|

रोष भी वहीं बैठा है, देख रहा है| बालक फिर नए जोश से लग गया है| नया घर| नयी बालू| नयी जगह| नन्हे-नन्हे हाथ| बालू को मुट्ठियों में भींच कर उठाते, गोला बनाते| इकठ्ठा करते, थपथपाते| नया जोश है| नयी प्रेरणा| सपनों का महल फिर से जीवंत होता देख, नन्हे नन्हे होठों पर एक हल्की मुस्कान फिर जन्म ले रही है|

सूरज भी आसमान में उठ रहा है, बालक तो एकटक निहारता| पृथ्वी को ऐसे ही स्रजन्हारों की तो आवश्यकता है| लेकिन फिर एक लहर आती है| और स्वप्न महल फिर धराशाई| बालक रुआंसा हो बैठ गया है|

रोष भी बैठा है, देख रहा है| बालक थोड़ा ऊंचाई की ओर बढ़ गया है अब| दूर से उसका चेहरा कुछ प्रौढ़ सा दिखने लगा है| बार-बार समुद्र तक जाता है| गीली बालू को मुट्ठी दर मुट्ठी उठा-उठा कर वापिस भागा आता है|

फिर रेत के एक महल का जन्म हो रहा है| पहले से अधिक विशाल| दुर्ग जैसा अभेद्य| और खतरे से दूर| सागर से दूर| सागर ही तो खतरा है| इस बार कोई क्षति नहीं होने दूंगा - ये प्रण है| प्रतिज्ञा है| ये है विश्वास, आशा, जीवन| बार बार जीवन की असीम जीवंतता, लहर बन कर हर बाधा को लांघ जाती है| स्रजन के लिए सामान छोड़ जाती है|

दूर से कुछ बच्चों का झुण्ड लड़ता-झगड़ता दौड़ा आ रहा है| घर की ओर| घर को देखे समझे बिना, अनजान पैर उसे रौंद जाते हैं| आगे बढ़ जाते हैं - अनजान किसी घट गयी दुर्घटना से, अनछुए किसी ग्लानि के भाव से| लेकिन पीछे रुदन छोड़ जाते हैं|

रोष अब भी बैठा है, देख रहा है| सूर्य आसमान में दमक रहा है| बालक के आँसू सूख चुके हैं| वह फिर गीली बालू इकट्ठी कर रहा है| लेकिन अब घर छोड़ कर ज़्यादा देर दूर नहीं रहता| जल्दी लौट आता है| घर के पास| अपने दुर्ग के पास| उसकी रक्षा को हरदम तत्पर, तैयार|

समझ गया है कि रेत के किले बनाने जितना ज़रूरी है उन किलों को बचाना| स्रजन के साथ-साथ उसकी रक्षा का भार भी संभालना होगा|

सूरज आसमान की सीढ़ियाँ उतरने के बारे में सोचता हुआ, बालक को घूर रहा है| उसके तेज से बालू तेज़ी से सूख रही है| सूखी बालू अपने ही भार से अपने ऊपर गिरी-गिरी जाती है| सागर से दूरी इस घर की मौत है| जीवन सागर के पास है| सागर की भेंट|

इस रेत के महल को छोड़ना होगा| सागर के पास लौटना होगा| बालक बार-बार अपनी छोटी सी अँजुली में सागर का जल भर-भर कर लाता है| सूखते घर पर छिड़कता है| पर रेत ने कहाँ कभी देर तक जल को थामा है| धँसा हुआ घर कितनी देर तक टिकेगा?

एक आखिरी दृष्टि अपने धंसते रेत के दुर्ग पर डाल, बालक लौट पड़ता है - सागर के पास|

अगली कहानी: जीवन व्यर्थ